संदेश

February, 2012 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

चाय और तुम

चाय की प्याली की तपती सतह,
उससे उठती गर्म सी भाप,
होठों से लगते ही,
जुबां को मीठा करने की उसकी अदा,
और,
गले को अंदर से छूती,
उसकी तासीर,
ये चाय मुझे अक्सर,
तुम्हारी याद दिला जाती है...