संदेश

March, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

मेरी ख़ामोशी

जिसके पास कहने को बहुत होता है,
वो अक्सर किसी कोने में चुप सा,
छुपा सा बैठा होता है,
शायद ये सोचकर,
कि इसी में सबकी भलाई है।

मरीचिका

चित्र
इस 01:01 की तरह
किसी के साथ होकर
तू भी अकेला सा ही है
मेरी तरह

कीमती वक़्त - 2

चित्र
सुनो
कुछ वक़्त
मेरे लिए भी ख़रीद लो
बाद में थोड़ा-थोड़ा करके
चुका दूँगा
वक़्त भी
और कीमत भी

राय

कुछ लोग अपनी फ़ितरत बदलते हैं हर दिन
यूँ किसी के बारे में इक राय बनाना नहीं अच्छा!

मुलाक़ात

इक वो मुलाक़ात बड़े वक़्त से ठहरी हुई है
इक ये वक़्त है जो कमबख्त़ ठहरता नहीं।